जीवन की वो तीन चीजें जो आपको रूकने नहीं देती

जीवन की वो तीन चीजें जो आपको रूकने नहीं देती

जीवन की वो तीन चीजें जो आपको रूकने नहीं देती


Human development, How to develop personality

इंटरव्यू में आपसे एक सामान्य सवाल पूछा जाता है कि अन्य लोगों में आप सबसे महत्वपूर्ण बात क्या देखते हैं? जिसका सामान्य तौर पर उत्तर आता है: चरित्र विशेषता। इस सवाल का जवाब ईमानदारी, हास्य, आत्मविश्वास, करिश्मा आदि भी हो सकता है।(Human development, How to develop personality)


इस लेख में ऐसी तीन व्यक्तिगत विशेषता के बारे में बताया गया है, जिनके एक साथ होने पर व्यक्ति की कार्यप्रणाली सुपरनोवा की तरह प्रतीत होती है- एक है जो कमांड कर सकता है और भाग्य को निर्धारित कर सकता है, अन्य परोपकार और बुद्धिमात्ता दोनों को समाहित कर सकता है।


जीवन का उद्देश्य खुशी है या इसका उपयोगी होना?

विनम्रता:

यह गुण विकसित होने, सीखने और दया का मूल है।। विनम्रता का प्रदर्शन करने वाले लोगों का काम खुद उनकी व्याख्या करता हैं। वे दुख की घड़ी में स्थिर रहते हैं और वे खुद और अन्य को याद दिलाते हैं, यह जीवन नाजुक है इसलिए यह मूल्यवान है। विनम्रता अज्ञानता को शांत करती है और दया को जीवनशैली में शामिल होती है।

जिज्ञासा :

जिज्ञासा के बिना, आप जीवन में सफल नहीं हो सकते हैं। यह ज्ञान, संस्कृति, नवीनता, अनुभव, सौंदर्य, कला और संबंध के लिए एक अतृप्त खोज को प्रेरित करती है। यह वह आधार है जिस पर आप कहानियों, यादों, उपलब्धियों और रिश्तों से भरे जीवन का निर्माण कर सकते हैं। जो लोग जिज्ञासा प्रदर्शित करते हैं वे बहुमुखी प्रतिभा के स्वामी हो सकते हैं और वे पहले सुनना पसंद करते हैं, लेकिन उन्हें हमेशा खुले दिमाग का होना चाहिए। । दुनिया बहुत बड़ी है और हमारे पास समय बहुत कम है इसलिए जो भी नए विचार उनके सामने आते हैं उन्हें जानने और समझने की कोशिश करनी चाहिए।

सहानुभूति :

यह विशेषता मानवता का चमत्कारिक गुण है। यह सबसे सरल एवं मधुर विशेषता है, जिसे कोई भी व्यक्ति अपने जीवन मेन उतार सकता है। यह सामाजिक सफलता के लिए सबसे सार्थक साधना में से एक है। सहानुभूति लोगों को करीब लाती है और दूसरों को समझती है साथ ही यह आपको अंदर से अकेला महसूस नहीं करने देती है। दूसरों की आंखों के माध्यम से दुनिया को समझने और दूसरों को महसूस करने करने की यह अनूठी क्षमता है। सहानुभूति या करुणा, संबंध और प्रेम को जन्म देती है। यह ईमानदारी के लिए एक महत्वपूर्ण अग्रदूत है।

कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार वजन घटाने में सहायक, रिपोर्ट

जब आप विनम्रता, जिज्ञासा और सहानुभूति को अपने जीवन में उतारते हैं, तो आप आसानी से महसूस कर सकते हैं कि वे एक दूसरे को कैसे बढ़ाते हैं। नम्रता आत्मा है, जबकि जिज्ञासा मन और सहानुभूति दिल है। 

विनम्रता यह है कि आप अपने आप को कैसे महत्व देते हैं। इसके विपरीत जिज्ञासा वह है कि आप दूसरों को कैसे महत्व देते हैं। सहानुभूति यह है कि आप अपने और दूसरों के बीच के बंधन को कैसे महत्व देते हैं। विनम्रता ज्ञान की मिट्टी है। जिज्ञासा वह पानी है जो इसे बढ़ने में मदद करता है। सहानुभूति वह धूप की छाया है जो हमें दिखाती है कि किस तरफ झुकना है। 

यदि आप दो गुण अपनाकर अन्य को छोड़ देते हैं, तो आप प्रभावी नहीं हो सकते। विनम्रता और सहानुभूति से संबन्धित लोग सुस्त हो सकते हैं। जिज्ञासु लोग कामचोर और थकने वाले हो सकते हैं। लेकिन जब आप उन सभी को एक साथ लाते हैं, तो आप खुद को गतिशील पाते हैं। ये तीन लक्षण लोकप्रिय, स्मार्ट और यादगार बनने की कुंजी हैं।



HindiNews Team

चर्चित खबरें, स्वास्थ्य सुझाव, व्यक्तित्व विकास, ज्ञान, जानकारी, प्रेरणादायक, लेख, कहानी

leave a comment

Create Account



Log In Your Account