Breaking :

एक असामाजिक लड़का- चरित्र संबन्धित कहानी

एक असामाजिक लड़का- चरित्र संबन्धित कहानी

एक असामाजिक लड़का- चरित्र संबन्धित कहानी

motivational story in Hindi, short stories in Hindi, short stories for kids in Hindi

बहुत समय पहले एक लड़का था। वह स्मार्ट, प्रतिभाशाली और सुन्दर था। हालांकि, वह बहुत स्वार्थी था और उसे गुस्सा बहुत आता था, जिससे कोई भी उसका दोस्त नहीं बनना चाहता था। अक्सर वह गुस्सा हो जाता और अपने आस-पास के लोगों से झगड़ता रहता था। (motivational story in Hindi, short stories in Hindi, short stories for kids in Hindi)

लड़के के माता-पिता बेटे के गुस्से के बारे में बहुत चिंतित थे। उन्होंने सोचा की उन्हें कुछ करना चाहिये और एक दिन पिता के पास एक विचार आया। उसने अपने बेटे को बुलाया और उसे हथौड़ा और कीलों का एक बैग दिया। इसके बाद पिता ने कहा: ‘हर बार जब आप गुस्सा हो जाओ, तो उस पुराने बाड़ में जितना हो सके पीड़ो देना।’ 

बाड़ बहुत कठिन था और हथौड़ा भारी था, फिर भी लड़का इतना क्रोधित था कि पहले दिन के दौरान उसने 37 कीलों को पीड़ो दिया।  दिन के बाद, सप्ताह के बाद सप्ताह, कीलों की संख्या धीरे-धीरे घट रही थी। कुछ समय बाद, लड़के को यह समझ में आना शुरू हो गया कि बाड़ में कीलों को पीड़ोने के आपेक्षा गुस्सा पर काबू करना आसान है। 


सुखद शादीशुदा जीवन

कुछ दिन बाद लड़के को हथौड़ा और कीलों की आवश्यकता नहीं रही , क्योंकि वह अपने गुस्सा को काबू करना सीख गया था। इसके बाद वह अपने पिता के पास आया और अपनी उपलब्धि के बारे में बताया, इसके बाद पिता ने कहा जब भी आप पूरे दिन अपना गुस्सा महसूस करना तो उस बाड़ से एक कील खींच लेना। 

बहुत समय बीत गया। अंत में लड़के को खुद पर गर्व हो सकता था क्योंकि सभी कील उस बाड़ से बाहर आ गए थे। जब वह अपने पिता के पास आया और इसके बारे में बताया तो उसके पिता ने बाड़ को सावधानीपूर्वक देखने की पेशकश की। ‘तुमने अच्छा काम किया, मेरे बेटे, लेकिन कीलों द्वारा छोड़े गए छेद पर ध्यान दो। बाड़ कभी भी अपने पहले रूप मेन नहीं होगा।


एक गुलदस्ता मां के लिए

वही होता है जब आप लोगों के गलत शब्दों का इस्तेमाल करते हो, क्योंकि आपके शब्द बाड़ में उन छेदों की तरह उनके दिल पर निशान छोड़ देते हैं। याद रखें, हमें सभी को प्यार और सम्मान के साथ व्यवहार करने की ज़रूरत हैे। क्योंकि जब भी आप कहते हैं कि आप क्षमा चाहते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि निशान गायब नहीं होंते।

नोट: सभी के साथ हमारा व्यवहार प्यारा और विनम्र होना चाहिए, क्योंकि भूतपूर्व में किये गए गलत व्यवहार को बाद में पूरी तरह विस्थापित नहीं कर सकते।  


leave a comment

Create Account



Log In Your Account