Breaking :

नासा के हबल टेलीस्कोप द्वारा 30 मिलियन प्रकाश वर्ष दूर एक बौने गैलेक्सी का पता चला

नासा के हबल टेलीस्कोप द्वारा 30 मिलियन प्रकाश वर्ष दूर एक बौने गैलेक्सी का पता चला

नासा के हबल टेलीस्कोप द्वारा 30 मिलियन प्रकाश वर्ष दूर एक बौने गैलेक्सी का पता चला

Bedin1, Hubble Telescope, Science and technology

वैज्ञानिक अनुसंधान के बारे में आश्चर्यजनक चीजों में से एक यह है कि हम केवल उन चीजों के बारे में नहीं जानते हैं, जिसके बारे में हम जानना चाहते हैं, बल्कि कभी-कभी संयोग से आश्चर्यजनक खोज भी सामने आ जाती है। इस हफ्ते ऐसा ही हुआ, जब खगोलविदों ने गलती से ‘मिल्की वे’ के हिस्से का अध्ययन करते हुए एक नये ‘बौने आकाशगंगा'(ड्वार्फ गैलेक्सी) का पता लगाया। (Bedin1, Hubble Telescope, science and technology)


खगोल विज्ञानी हबल स्पेस टेलीस्कॉप के डेटा का उपयोग ग्लोबुलर क्लस्टर एनजीसी 6752( तारों का एक गोलाकार समूह जो मिल्की वे के मूल की परिक्रमा करता है) में सफेद बौने तारों का अध्ययन रहे थे। वे इन तारों का अध्ययन करके यह जानने की उम्मीद कर रहे थे कि ग्लोबुलर क्लस्टर कितना पुराना है, लेकिन इस प्रक्रिया में उन्हें कुछ अप्रत्याशित लगा। सर्वेक्षण के लिए हबल के उन्नत कैमरा से देखने पर मंद तारों का एक समूह दिखा। लेकिन उनकी चमक और तापमान का आगे निरीक्षण पर वैज्ञानिकों ने महसूस किया कि ये तारे गोलाकार क्लस्टर का हिस्सा नहीं थे और वास्तव में बहुत अधिक दूर थे।

नए देखे गए तारे वास्तव में लाखों प्रकाश-वर्ष दूर थे और एक अपेक्षाकृत छोटी आकाशगंगा का हिस्सा हैं जो कि सिर्फ 3000 प्रकाश-वर्ष की दूरी पर है। आकाशगंगा न केवल छोटी है, बल्कि बहुत ही धुंधली है। नई आकाशगंगा को बौनी गोलाकार आकाशगंगा के रूप में वर्गीकृत किया गया है और इसका नाम लुइगी बेडिन के बाद बेडिन1 रखा गया है, जो इतालवी नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर एस्ट्रोफिजिक्स (INAF) के एक खगोलशास्त्री और खोज करने वाले दल के नेता हैं।

बेडिन 1 एक असामान्य आकाशगंगा है, जो दूसरों से बहुत अलग है, यह मिल्की वे से 30 मिलियन प्रकाश-वर्ष और निकटतम बड़ी आकाशगंगा, NGC 6744 से 2 मिलियन प्रकाश-वर्ष की दूरी पर स्थित है। यह संभवत: सबसे पृथक छोटी बौनी आकाशगंगा है।

क्षुद्रग्रह के प्रभाव के कारण पृथ्वी पर महाद्वीपों का निर्माण हुआ!

बेडिन 1 की खोज कैसे की गई, इसका पता लगाने के लिए, उपर दिए गए वीडियो में गोलाकार क्लस्टर एनजीसी 6752 की यात्रा में एक ज़ूम किया गया है, जिसमें अंतिम दृश्य में अग्रभाग में चमकीले तारों को हबल द्वारा कैप्चर किया गया है। जबकि पृष्ठभूमि में मंद तारे हैं, पीछे आकाशगंगा मौजूद है। यह पृष्ठभूमि आकाशगंगा बेडिन 1 है।


Related Posts

भारतीय उच्च शिक्षा की समस्याएं

Comments Off on भारतीय उच्च शिक्षा की समस्याएं

दो क्षुद्रग्रह पिछले सप्ताह पृथ्वी के नजदीक एक-दूसरे को स्पर्श करते हुए गुजरे

Comments Off on दो क्षुद्रग्रह पिछले सप्ताह पृथ्वी के नजदीक एक-दूसरे को स्पर्श करते हुए गुजरे

leave a comment

Create Account



Log In Your Account